अमरुद का पेड़

प्रेषिका : पायल सिंह

नेहा अपनी बारहवीं की परीक्षा के बाद छुट्टी मनाने मेरठ से अपने मामा के घर आजमगढ़ चली गई। आजमगढ़ में उसके मामा और मामी अकेले ही रहते हैं क्योंकि बेटी की शादी हो चुकी है और दोनों बेटा दिल्ली में नौकरी करता है। नेहा के मामा 52 वर्ष के हैं और आजमगढ़ की एक बड़ी फ़ैक्टरी में सुपरवाइजर हैं और मामी 48 वर्ष की हैं। दोनों पति-पत्नी अत्यंत ही धार्मिक विचार के व्यक्ति हैं और वे दोनों पूजा-पाठ और दान-पुण्य में अपार विश्वास रखते हैं।

नेहा को यहाँ बहुत मन लग रहा था, उसने पड़ोस की 4-5 लड़कियों से दोस्ती भी कर ली थी। नेहा अपनी मामी के साथ सोती थी और मामा अकेले सोते थे।

एक रात 2 बजे अचानक मामी ने नेहा की कराहट सुनी तो उनकी नींद खुल गई, मामी ने नेहा से पूछा- क्या हुआ बेटी, क्यों कराह रही हो?

नेहा ने कराहते हुए कहा- मामी, आज शाम को जब मैं अमरुद के पेड़ पर चढ़ी थी तो मेरे पैंटी में एक कीड़ा ने घुसकर काट लिया था, उस समय ज्यादा दर्द नहीं हुआ था, पर अभी वहाँ पर बहुत दर्द हो रही है और नीचे के छेद में भी बहुत जलन हो रही है।

ऐसा सुनकर मामी अपने पति के कमरे में चली गई और उन्हें जगाते हुए ये वाकया बताया।

यह सुनकर मामा को टेंशन हो गया, कुछ देर सोचने के बाद उसने अपने डॉक्टर मित्र डॉ. उमाशंकर दुबे को फ़ोन लगा कर यह समस्या बताई तो उन्होंने पूछा कि क्या आपके घर पर Betnovate-N मलहम है?

तो मामा ने जवाब दिया कि मलहम मेरे पास है, यह सुनकर डॉ. दुबे ने कहा की इस मलहम को जहाँ पर दर्द हो रहा है वहाँ पर और छेद में भी उँगली से अपनी अपनी पत्नी से लगवा देना, इससे थोड़ा आराम मिल जायेगा और सुबह में भांजी को मुझे दिखा देना। यह सुनकर मामा ने मलहम को लाकर अपनी पत्नी को दे दिया और बोला कि यह मलहम जाकर नेहा को लगा दो।

यह सुनकर मामी मलहम लेकर मामा के कमरे से चली गई और मामा अपने बिस्तर पर सोने चले गये। मामी ने अपने कमरे में जाकर जब नेहा को मलहम लगाने के लिए उसकी पैंटी को खोली तो देखा कि उसके योनि-क्षेत्र पर झाड़ी जैसे अत्यन्त ही घने बाल हैं। मामी को एकदम पता ही नहीं चल रहा था कि कीड़े ने कहाँ पर काटा है तो मामी ने नेहा से यह पूछ-पूछकर कि कहाँ-कहाँ पर दर्द है, वहाँ-वहाँ पर मलहम लगा दिया। फिर नेहा की चूत को फैला कर उसके छेद में भी अपनी उंगली से मलहम लगा दिया पर नेहा ने कहा कि उसे जलन और अन्दर है और वहाँ तक मामी की उंगली नहीं पहुँच पाई।

मामी यह सोचकर कि नेहा को थोड़ी देर में आराम मिल जायेगा, वो उसके बगल में लेट गई।

एक घंटे के बाद मामी की नींद नेहा की कराहट से फिर खुल गई। मामी ने तुरंत पूछा- क्या हुआ बेटी, तुम्हें आराम नहीं मिला क्या? नेहा- मामी, जहाँ-जहाँ मलहम लगा है, वहाँ-वहाँ पर काफी आराम मिल गया पर अब दर्द छेद के और अन्दर हो रहा है जहाँ पर मलहम नहीं लगा है।

मामी कुछ देर सोचने के बाद मामा से कुछ लेने उसके कमरे में चली गई। मामी ने मामा को सारी बात बता कर बोली- चलिए आप खुद चलकर नेहा की योनि को देख लीजिये, मुझे तो कुछ समझ में नहीं आ रहा है।

ऐसा सुनकर मामा ने गुस्से में कहा- तुम पागल हो, नेहा तो मेरी बेटी जैसी है और मैं उसकी योनि देखूँगा।

मामी ने मामा को समझाते हुए कहा- मुसीबत के समय यह सोचना गलत है, अगर इसे आपके मित्र डॉ. दुबे के यहाँ ले जाते तो क्या वो नेहा की योनि को नहीं देखते?

ऐसा सुनकर मामा कुछ सोचने लगे फिर बोले- ठीक है चलते हैं।

कमरे में जाकर मामा ने नेहा से पूछा- बेटी, अब तुम्हारा दर्द कैसा है?

नेहा- मामा जी, जहाँ-जहाँ पर मलहम लगा है, वहाँ-वहाँ पर तो काफी आराम है, पर मेरे नीचे के छेद में जहाँ पर मलहम नहीं लगा है, वहाँ पर अभी काफी दर्द और जलन हो रही है।

ऐसा सुनकर मामा ने कहा- ठीक है बेटी, अभी वहाँ पर देखकर मैं कोई उपाय सोचता हूँ।

ऐसा बोलने के बाद मामा झिझकते हुए नेहा की पैंटी को खोलने लगे, पूरी पैंटी उतरने के बाद जब मामा ने नेहा की अत्यन्त ही घने बाल भरी चूत को देखा तो एकदम दंग रह गये और अपनी पत्नी से कहा- इस ही उम्र में इसके यहाँ पर तो बहुत ही घने बाल निकल आये हैं?

मामी ने भी कहा- कि मैं भी इतनी उम्र की लड़की के इतने घने बाल देख कर आश्चर्यचकित रह गई थी।

फिर मामी ने कहा- अब इसकी योनि को फैलाकर इसके छेद को देखिये ना !

ऐसा सुनकर मामा ने सकुचाते हुए नेहा के चूत की घनी बालों को फैला कर बीच की फाँक को दृष्टिगोचर किया फिर दोनों फाँकों को फैलाया और फाँक के बीच वाले गुलाबी भाग को देखकर मामा की दिल की धड़कन अचानक तेज हो गई, बदन से पसीना निकलने लगा। फिर मामा ने नेहा की चूत को चीर कर देखा, तो उन्हें कुछ पता नहीं चला, तो छेद में अपनी एक उंगली को घुस करके नेहा नेहा से पूछा- बेटी, मेरी उंगली के और नीचे तक जलन है?

तो नेहा ने कहा- हाँ मामाजी !

ऐसा सुनकर मामा ने अपनी पत्नी से कहा- सुधा, जरा किचन से एक पतला, लम्बा बैंगन लेकर आओ !

तो मामी ने कहा- बैंगन तो मैंने कल ही पका दिया है, यह सुनकर मामा ने कहा- तो कोई पेन या पेंसिल लाकर दो। घर में कोई पेंसिल तो नहीं था तो मामी ने एक पेन लाकर दिया। मामा ने पेन में मलहम लगाकर उसे नेहा की चूत में घुसाने लगे, चूत में थोड़ी दूर तक पेन जाने के बाद नेहा की योनि में अत्यंत दर्द होने लगा तो मामा ने पेन बाहर निकाल दिया और अपनी पत्नी से बोला कि अब तो मुझे कोई उपाय नहीं सूझ रहा है।

थोड़ी देर तक सोचने के बाद मामी ने कहा- अगर आप बुरा ना मानो तो मैं एक उपाय बताऊँ क्या?

मामा- क्या उपाय है, बताओ?

मामी ने हिचकिचाते हुए कहा- अगर आप अपने लिंग से नेहा की योनि के अन्दर मलहम लगा देंगे तो बेचारी का दर्द ठीक हो जायेगा। ऐसा सुनकर मामा भौंचक्का हो गए और कहा- अब तुम सच में पागल हो गई हो, ऐसा करना पाप होगा और अगर नेहा के पापा यह जानेगें तो क्या होगा? मैं यह पाप हरगिज नहीं करूँगा।

ऐसा सुनकर मामी ने कहा- किसी के कष्ट को कम करना पाप नहीं होता है, आप इसकी योनि में फॉल मत करना, केवल आधा मिनट का तो काम है और नेहा यह बात किसी को नहीं कहेगी। अगर तुम्हें यकीन नहीं है तो तुम नेहा से यह बात पूछ लो।

मामा- मान लेता हूँ कि नेहा किसी से नहीं कहेगी, पर तुम तो जानती ही हो कि फ़ाइलेरिया बीमारी के कारण मेरा लिंग एकदम खीरा इतना मोटा और 9 इंच लम्बा हो गया है, नेहा इतना बड़ा लिंग थोड़े ने बर्दास्त कर पायेगी, ब्लीडिंग भी हो सकती है। ऐसा सुनकर मामी ने कहा- आपने अभी देखा नहीं, नेहा की योनि तो अत्यन्त बड़ी है, वो आपका लिंग बर्दास्त कर लेगी और जितना घुसे आप उतना ही घुसाना।

यह सुनकर मामा ने कहा- मैं तो नेहा की चूत को पहली नजर में देख कर समझ गया था कि यह बहुत ही बड़ी है पर उस वक़्त मैंने शर्म से कुछ नहीं बोला, ठीक है, मैं नेहा की चूत में मलहम लगाता हूँ पर इससे पूछ लेता हूँ कि वो यह बात किसी से कहेगी नहीं ना। ऐसा कहकर मामा ने नेहा से पूछा- बेटी नेहा, अगर मैं तुम्हारी चूत में अपने लिंग से मलहम लगाऊँगा तो तुम यह बात किसी से कहोगी नहीं ना?

नेहा ने करहाते हुए कहा- नहीं मामाजी, मैं यह बात किसी से नहीं कहूँगी, आप जल्दी से मेरा दर्द ठीक कर दो बस।

मामा अत्यन्त ही धार्मिक विचार के व्यक्ति थे, यह काम वो अत्यन्त ही मजबूरी में करने जा रहे थे।

मामा ने अपने मन को मसोसते हुए अपना पायजामा उतार दिया, उनका लिंग एकदम शिथिल था परन्तु उनका लिंग शिथिल अवस्था में भी फ़ाइलेरिया के कारण उत्थित लिंग से बड़ा प्रतीत हो रहा था।

नेहा अपने मामा के लिंग को देखकर एकदम उत्तेजित हो गई और उसे बहुत गौर से देखने लगी। मामा ने अपनी पत्नी से कहा- सुधा, अब मेरे लिंग पर मलहम लगा दो और इसे हिलाकर खड़ा कर दो क्योंकि इतना मुलायम लिंग नेहा की चूत में थोड़े न जा पायेगा।

ऐसा सुनकर मामी ने अपने पति के लिंग में मलहम लगाकर उसे आगे-पीछे करने लगी पर फ़ाइलेरिया बीमारी के कारण मामा का लिंग खड़ा नहीं हो पा रहा था।इस समस्या को देखकर मामी ने नेहा से कहा- बेटी तुम्हारे मामा का लिंग खड़ा नहीं हो रहा है तुम जरा अपने मामा का लिंग अपने मुँह में लेकर उसे चूसकर बड़ा कर दो फिर मामा तुम्हारे चूत में अपना लिंग घुसकर मलहम लगा देंगे।

ऐसा सुनकर नेहा ने अपने मामा के लिंग के सुपारी को खोल कर चूसने लगी।

नेहा के लिंग चूसते ही अत्यन्त धार्मिक विचार वाले मामा अपनी धार्मिकता भूल गये और आनंदभरी सिसकारी लेते हुए बोले- बेटी, नेहा मेरा लिंग थोड़ा और अन्दर लेकर चूसो।

तो नेहा ने लिंग को अपने मुँह के और अन्दर लेकर चूसने लगी। अब मामा का लिंग एकदम टाइट होकर स्टील रॉड की तरह खड़ा हो गया तो उन्होंने अपना लिंग नेहा के मुँह से बाहर निकाल लिया। लिंग को बाहर निकलने के बाद मामा का भयंकर लिंग को देखकर नेहा एकदम डर गई और बोली- मामाजी, आपका लिंग तो बहुत ही बड़ा है, मुझे देखकर बहुत डर लग रहा है, घुसाने में मुझे बहुत दर्द होगा। ऐसा सुनकर अंकल ने कहा- धत्त पगली, डर मत, वैसे भी तुम्हारी चूत कौन सी बहुत छोटी है, प्यार से धीरे-धीरे घुसाऊँगा तो बिल्कुल दर्द नहीं होगा।

फिर मामा ने कहा- नेहा बेटी, अब तुम अपनी चूत को चौड़ा करके लेट जाओ।

ऐसा सुनकर नेहा अपनी चूत को चौड़ा कर लेट गई। फिर मामा ने अपने लिंग पर दोबारा मलहम लगाया और उसके बाद नेहा की चूत की घनी बालों को सहलाने लगे उसकी भगनासा को अपने अँगूठे से उसे रगड़ने लगे तो नेहा के मुँह से सिसकारी निकलने लगी। फिर मामा ने अपनी अपनी पत्नी की ओर देख कर बोला- अब मैं नेहा की चूत को चाट कर उसे थोड़ा गीला कर देता हूँ ताकि मेरा मोटा लिंग आसानी से घुस जाये।

ऐसा कहकर मामा ने नेहा की चूत को चीरकर पहले उसे सूंघा, नेहा की चूत की खुशबू सूंघते ही मामा का लिंग एकदम फनफना गया। फिर वो नेहा की विशाल चूत को अपने जीभ से चाटने लगे। मामा के चूत चाटने से नेहा की चूत से योनिरस निकलने लगा जिसे मामा चाट गए।

नेहा की चूत थोड़ी देर तक चाटने के बाद मामा ने कहा- अब मलहम लगाता हूँ।

ऐसा कहकर मामा ने नेहा की चूत पर अपना भयंकर सुपारा रख कर उसे घुसाने लगे पर सुपारा अन्दर घुस नहीं पाया। ऐसा देख कर मामी ने कहा- आप नेहा के उरोजों को थोड़ा दबाइये तो उसकी चूत थोड़ी फ़ैल जाएगी और आपका लिंग सुगमता से घुस जायेगा।

ऐसा सुनकर मामा ने नेहा की टी-शर्ट उतार दी फिर ब्रा भी खोल दिया। नेहा के बड़े-बड़े सख्त उरोजों को देखकर मामा तो एकदम पागल हो गये और उसके स्तनों को जोर-जोर से मसलने लगे, मसलने के कारण नेहा ऊह-आह करने लगी, फिर मामा उसके मोटे-मोटे निप्पल को लेकर अपने मुँह में चूसने लगे। इसके बाद मामा ने अपना लिंग को नेहा की चूत पर रख कर उसे घुसाने लगे पर उनका लिंग फिर घुस नहीं पाया तो मामी ने कहा- रुकिए, मैं आपकी थोड़ी हेल्प कर देती हूँ।

ऐसा कहकर मामी ने अपने दोनों हाथों से नेहा की चूत को एकदम से चीर दिया फिर बोला- जल्दी से अपना लिंग घुसाइये।

यह सुनकर मामा ने अपने सुपारा को नेहा की चूत पर रख धक्का मारा तो उनका लिंग घचाक से नेहा की टाइट चूत में घुस गया, नेहा चिल्ला उठी पर मामा रुके नहीं, उन्होंने अपना पूरा 9 इंच नेहा की कसी हुई चूत में घुसा कर ही दम लिया।

थोड़ी देर साँस लेने के बाद मामा धीरे-धीरे नेहा की चूत में अपना 9 इंच अन्दर-बाहर करने लगे। मामा को तो लगा कि वो स्वर्ग में पहुँच गये हैं।

अब मामा अपनी रफ़्तार बढ़ा कर नेहा की चूत को घप-घप चोदने लगे और नेहा सी-सी करते हुए चुदवा रही थी।

कुछ देर के बाद मामा ने पूछा- बेटी, अब दर्द कैसा है?

नेहा- मामाजी, अब बहुत आराम है।

यह सुनकर मामी बहुत प्रसन्न हो गई। थोड़ी देर के बाद मामा ने नेहा की चूत से अपनी लिंग बाहर निकल लिया और पलंग पर अपनी पीठ की टेक लगाकर बैठ गये और नेहा को बोला- बेटी अब मेरे लिंग पर अपनी चूत को चीर कर बैठ जाओ।

फिर नेहा ने मामा के मोटे सुपारा पर अपनी चूत की छेद रख कर धीरे-धीरे बैठने लगी और पूरा लिंग को अपनी टाइट चूत में समा लिया और उसके बाद मामा में एकदम से लिपट गई और उनके होठों पर एक गरमा-गर्म चुम्बन लेकर अपनी गांड को ऊपर-नीचे करने लगी। नेहा अपनी गांड को ऊपर-नीचे करते हुए अपने मामा की फ़ाइलेरिया वाले मोटे लंड को अपनी टाइट चूत से घपा-घप चोद रही थी। मामा और नेहा दोनों आनन्द भरी कराहें ले रहे थे। दोनों की सिसकारी और घपा-घप की आवाज़ सुनकर मामी को अजीब सा लग रहा था। थोड़ी देर के बाद मामा ने नेहा की चूत में अपना गरम-गरम माल गिरा दिया।

अगले भाग में आप पढ़ियेगा कि डॉ. दुबे और मामा ने एक साथ मिलकर नेहा से कैसे मजे लिये। इस कहानी पर अपनी प्रतिक्रिया मेरे ई-मेल आईडी [email protected] पर भेज सकते हैं।

प्रकाशित : 15 अप्रैल 2013

पिछला पृष्ठ