चुदाई यात्रा-4

लेखिका : उषा मस्तानी

अगले दिन रात को आठ बजे सतीश और अमित वापस आ गए और आते ही नहाने चले गए।

भाभी और मैं कॉफी बनाकर ले आई। सतीश और अमित ने तौलिया बाँध लिया था, भाभी ने साड़ी और मैंने सलवार सूट पहन रखा था।

कॉफी पीकर हम लोग बातें करने लगे, सतीश मेरा हाथ सहला रहा था।

सतीश को देखती हुई भाभी बोली- नया माल देखकर हमें तो भूल ही गए?

सतीश बोला- जलन हो रही है? चिंता न करो, आज रात पहले तुम्हें ही बजा देता हूँ।

सतीश उठा और भाभी को गोद में उठा लिया और पलंग पर लिटा दिया और उनकी साड़ी-पेटीकोट ऊपर तक उठा दी। भाभी की चूत दिखने लगी थी। सतीश का तौलिया नीचे गिर चुका था उअर उसका तना हुआ लंड हवा में लहरा रहा था।

भाभी उसे धक्का देते हुए बोली- हरामी, कपड़े तो उतार लेने दे, साड़ी ख़राब हो जाएगी !

लेकिन सतीश ने भागने की कोशिश कर रही भाभी को पीछे कमर से पकड़ लिया और बोला- प्यार में कपड़े उतारने की क्या जरूरत?

उसने पलंग पर भाभी को गिरा कर पीछे से भाभी का पेटीकोट और साड़ी ऊपर कमर तक उठा कर पीछे से झांकती भाभी की चूत में एक झटके में लंड फिट कर दिया। सतीश अमित से बड़ा लौड़े का खिलाड़ी था, चूत दिखते ही पल भर में लौड़ा अंदर घुसा देता था। भाभी की चूत अब चुद रही थी।

8-10 धक्कों के बाद सतीश ने भाभी को छोड़ दिया और बोला- अब कपड़े उतार लो ! यह तो ट्रेलर था।

मैं मुस्करा रही थी, भाभी बोलीं- ट्रेलर इस अर्चना को भी दिखाया करो।

अमित ने मुझे गोद में उठा लिया और बोला- भाभी को मैं ट्रेलर दिखा देता हूँ।

और उसने मुझे पीठ के बल पलंग पर लेटा दिया और मेरे बालों से एक चिमटी निकाल कर मेरी पजामी में छेद कर दिया और पजामी चूत के पास से फाड़ दी, तौलिया नीचे गिरा कर अपना लंड मेरी चूत पर लगा दिया। मुझे जब तक कुछ समझ में आता, मेरी चूत में लंड घुस चुका था।

अमित ने मेरी चूत में 10-12 शोट पेल दिए।

भाभी ताली बजाते हुई बोली- यह हुई न बात।

मेरी पजामी फट गई थी। इसके बाद अमित हट गया, भाभी और मैंने बनावटी गुस्सा दिखाते हुए अपने कपड़े उतार दिए। हम दोनों पूरी नंगी हो गईं। भाभी बोलीं- तुम दोनों ने हमें पूरी रंडी बना दिया है। कपड़ों की चुदवाएं इससे अच्छा है चूत की ही चुदाई करा लें। जितना बजाना है बजा लो, आज रात, कल तो वापस जाना है।

इसके बाद हम लोगों ने नंगे ही खाना-पीना किया और 9 बजे एक ब्लू फिल्म लगा दी जिसमें एक लड़की की चुदाई तीन आदमी कर रहे थे।

हम लोगों ने जमीन पर गद्दे बिछा दिए, अमित और सतीश गद्दों पर बैठकर ब्लू फिल्म देखने लगे। लड़की की चूत, गांड और मुँह में तीन आदमी अलग अलग आसनों से लंड पेल रहे थे। भाभी और मैं दूसरे कमरे में गए, भाभी ने मेरी चूत और गांड जेली क्रीम से भर दी और बोली- इससे दर्द कम होगा।

वापस कमरे में आकर हम कुर्सी पर बैठ गए, ब्लू फिल्म देखते देखते अमित और सतीश के लंड कड़े होते जा रहे थे, वो हमें हलाल करने वाली नज़रों से देख रहे थे।

भाभी बोली- डाल दो ! ऐसे क्या घूर रहे हो?

अमित अपना लौड़ा सहलाते हुए बोला- सोच रहे हैं कि पहले किसे हलाल करें, पिक्चर देख कर तो एक साथ चढ़ने का मन कर रहा है।

भाभी कुर्सी से उठीं और बोलीं- पहले तुम दोनों मेरी चोद लो। फिर मैं आराम से अर्चना की चुदाई देखूंगी।

भाभी की बात सुनने के बाद अमित ने भाभी को अपनी गोद में लेटा लिया और बोला- यह हुई न अच्छी बात।

सतीश उठकर भाभी की टांगों के बीच बैठकर उनकी चूत चूसने लगा। अमित ने भाभी का सर घुमाकर अपना लंड उनके मुँह में डाल दिया। भाभी चूत चुसवाते हुए अमित का लंड चूसने लगीं।

ये सब देखकर मेरा हाथ चूत खुजलाने लगा था। इसके बाद अमित ने भाभी को घोड़ी बनाया और उनके चूतड़ों को चौड़ी करवाकर चूत में लंड लगा दिया। सतीश ने अब आगे से उनके मुँह में लंड डाल दिया। चुदते हुए भाभी चूसने का मज़ा लेने लगीं, भाभी २-२ लंडों से खेल रही थीं।

मेरी चूत उछाल मार रही थी। मैंने अपनी चूत सहलाते हुए अमित को अपनी चूत मारने का इशारा किया तो अमित ने भाभी को चोदना छोड़ दिया।

अब सतीश भाभी की चूत में घुसकर उनकी जवानी के मज़े लेने लगा, अमित मेरे पास आ गया और मुझे कुर्सी से उठा कर अपनी जांघें फ़ैला दीं और मुझे अपने लौड़े पर बैठा लिया, खड़ा लौड़ा मेरी चूत के दरवाजे से सीधा अंदर तक पहुँच गया।

आह ! मुझे बहुत मज़ा आया। लौड़ा चूत में लगवाए हुए मैं भाभी की चुदाई देखने लगी, चुदते हुए चुदाई देखने का मज़ा अलग ही था। हम दोनों की ऊह आह ऊह की आवाजें पूरे कमरे में गूँज रही थीं। सतीश भाभी की चूत मार रहा था। कुछ देर चूत मारने के बाद सतीश ने लौड़ा निकाला और भाभी की गांड में घुसा दिया। सेकंडों में लौड़ा भाभी की गांड के अंदर था। भाभी लौड़ा घुसते समय 'ऊई मर गई मर गई; चिल्ला उठीं लेकिन 5-6 शोटों के बाद भाभी 'ऊह आह आह आहा ! मज़ा आ गया ! और चोद चोद थोड़ा तेज पेल ! पेल, बड़ा मज़ा आ रहा है !' चिल्लाने लगीं, भाभी गांड के पूरे मज़े ले रही थीं। थोड़ी देर बाद भाभी और सतीश हट गए। सतीश ने भाभी को अपने ऊपर लेटा लिया और नीचे से उनकी चूत में लंड घुसा कर अमित को इशारा किया। अमित ने मेरी चूत से लंड निकाला और भाभी की फटी हुई चमकती गांड में घुसा दिया। अमित का लंड सतीश से ज्यादा मोटा था, भाभी जोर से चीखीं- उई उई मर गई !

अमित को 2-3 मिनट के करीब अपना पूरा लंड भाभी की गांड में ठोंकने में लगे। भाभी जोर से चीखी जा रहीं थीं, उसने पूरा लंड अंदर तक पेल दिया और भाभी को ठोकने लगा।

भाभी की दर्द वाली चीखें अब आह में बदल गई थीं। भाभी अमित और सतीश के बीच सैंडविच बनी हुई थीं। दो दो लंडों ने भाभी को ठोंकना शुरू कर दिया, भाभी एक रांड की तरह ऊई आह करते हुए मज़े से दो दो लंडों से ठुकाई का मज़ा ले रही थीं। मैं मन ही मन सोच रही थी कि मैं दो दो लंड नहीं घुसवाऊँगी।

भाभी इस समय मुझे चूत लंड के खेल की मजी हुई रंडी लग रही थीं। दस मिनट के बाद दोनों ने अपने लंड भाभी की चूत और गांड में खाली कर दिए। भाभी ने मुझे बुला लिया और हम चारों एक दूसरे से चिपक कर नंगे बिस्तर पर लेट गए। रात के बारह बजे थे, अभी मेरी जवानी का रस और दोनों को चूसना था लेकिन आधे घंटे में तीनों लोग सो गए।

मुझे लगा कि मैं बच गई और मैं भी चुपचाप सो गई।

सुबह आठ बजे के करीब भाभी मेरी चूत चूस रही थीं। मैं जाग गई, अमित और सतीश सिगरेट पी रहे थे। भाभी ने चूत से मुँह हटाया और बोलीं- तेरी चुदाई का मुजरा देखे बिना मैं यहाँ से नहीं जाऊँगी, अब तेरी चुदने की बारी है।

दुबारा वो मेरी चूत का दाना चूसने लगीं। थोड़ी देर बाद सिगरेट खत्म होने के बाद सतीश ने भाभी को अलग कर दिया और मेरी चूत में अपनी जीभ घुसा कर फिराने लगा, अमित मेरे कूल्हे पकड़ कर दबाने लगा। लौड़े के दोनों खिलाड़ियों ने मेरी चूत की भट्टी सुबह सुबह गर्म्म कर दी थी। मेरी चूत पूरी गर्म होकर रस छोड़ने लगी।

भाभी बोली- रंडीरानी, अब जरा पलटी मार लो।

मैं उलट गई। अमित ने मेरा मुँह अपनी गोद में रख लिया उसका लंड मेरे मुँह पर था, उसने बाल सहलाते हुए अपना लंड मेरे मुँह में घुसा दिया और लंड चुसवाने लगा।

सतीश ने पीछे से आकर मेरे चूतड़ उठाए और मेरी चूत में अपना लंड घुसा दिया इस बीच भाभी ने मेरे पेट के नीचे दो मोटे तकिये रख दिए अब मैं आराम घोड़ी बनी हुई थी। पहली बार दो दो लंड मेरी सेवा कर रहे थे। दोनों लंड मेरे मुँह और चूत में दौड़ रहे थे। मैं भी कामाग्नि में नहाती हुई लपालप लंड चूस रही थी और दोनों कुत्तों के लौड़ों का मज़ा ले रही थी।

मुझे इस खेल में एक नया मज़ा आ रहा था। अमित मेरे बाल सहलाते हुए बोला- भाभी मुझसे भी गांड मरवा लो न ! थोड़ा दर्द होगा लेकिन मज़ा पूरा आएगा।

तभी रजनी भाभी बोलीं- इसने रात को मेरी गांड तुम दोनों से चुदते हुए बड़े मज़े से देखी है, इसकी गांड तो तुम्हें अब मारनी ही पड़ेगी, नहीं तो मुझे दूसरा कोई मोटे लंड वाला कुत्ता बुलाना पड़ेगा। आज ये भाभी नहीं, अर्चना रंडी है।

मैं लौड़ा मुँह से निकालते हुए बोल पड़ी- न बाबा न ! अब किसी नए आदमी से नहीं मरवाऊँगी, मुझे कोई परमानेंट रंडी नहीं बनना। सतीश-अमित तुम्हें जो करना है, कर लो, जितनी फाड़नी है, फाड़ लो लेकिन प्यार से मारना।

अमित उठकर खड़ा हो गया, चूत में से सतीश ने भी लंड बाहर निकाल लिया, मेरे चूतड़ों पर हाथ फिराते हुए बोला- रानी, घबराती क्यों हो? दो दो छेदों में डलवाने का मज़ा शरीफ औरतों को बार बार कहाँ मिलता है, इसमें दर्द तो होता है लेकिन मज़ा भी बहुत आता है। इस अमित साले ने सीधे तुम्हारी गांड में डाल दिया तो दर्द ज्यादा होगा, पहले मैं रास्ता बना देता हूँ।

सतीश ने मेरी गांड में अपनी उंगली घुसा कर अंगूठी बनाते हुए मेरी गांड का मुँह चौड़ा कर दिया। सतीश पहले एक बार मेरी गांड मार चूका था, उसने आसानी से अपना लंड मेरी गांड में घुसा दिया और मेरी चूचियाँ झुककर पकड़ लीं। चूचियों को मसलते हुए सतीश मेरी गांड चोद रहा था, मैं बकरी बनी हुई 'मां मां मर गई' कर रही थी।

गांड चुदाई में मीठा दर्द हो रहा था, मेरी आहें गूँज रही थीं। अमित और भाभी सिगरेट पीते हुए मेरी गांड चुदाई का आनन्द ले रहे थे। सिगरेट ख़त्म होने के बाद अमित ने अपना लंड मेरे मुँह के आगे रख दिया और बोला- भाभी इसे चूसो, अब एक नया मज़ा आएगा !मैंने लंड मुँह में ले लिया। सतीश अब धीरे धीरे लौड़ा पेल रहा था। गांड मरवाते हुए मैं लौड़ा चूसने लगी, दो दो लंडों से मेरी जवानी लुट रही थी।

दस मिनट के बाद अमित ने लंड निकाल लिया और पीछे जाकर सतीश को हटा दिया।

अमित मेरे चूतड़ों को सहलाने लगा और बीच बीच में गांड में भी उंगली कर रहा था जैसे कि माल को परख रहा हो।

सतीश ने मेरे मुँह के पास आकर अपना कंडोम निकाल कर फेंका और अपना लौड़ा मेरे मुँह में घुसा दिया। मुँह में डालने के बाद उसने मेरी चुचूकों को कस कस कर नोच कर घुमाया और 4-5 बार अपना लौड़ा मेरे मुँह में ठोका।

इसके बाद उसने लौड़ा निकाल कर मेरी कमर कस कर पकड़ ली, मैं अब अपने चूतड़ हिला भी नहीं सकती थी। जब तक मैं कुछ समझती, अमित ने अपने लंड का सुपारा मेरी गांड में लगा दिया, मेरी गांड में 440 वोल्ट का झटका लगा। मैं जोर से चिल्ला उठी, भाभी ने मेरे मुँह पर हाथ रख दिया। अमित का लौड़ा अंदर प्रवेश करने लगा था। सतीश ने हाथ कमर से हटा लिए और मेरा मुँह पकड़ लिया, अमित अब मेरी कमर पकड़ कर अपना मोटा लंड अंदर घुसाए जा रहा था, मैं घुटी हुई चीखें मार रही थी। अमित का लंड सतीश से दुगना मोटा था। दो मिनट के बाद अमित का लंड मेरी गांड में पूरा फिट हो गया था। सतीश ने मेरा मुँह छोड़ दिया, मैं अब चिल्लाते हुए गालियाँ बक रही थी- हरामजादो, रंडी की औलादो, अपनी माँ की चोदो साले ! हराम के ऐसे कोई चोदता है/

लेकिन ये सब सुनकर कुत्तों का जोश बढ़ रहा था। अमित ने मेरी गांड ठोकनी शुरू कर दी और बोला- रंडी साली, पहले तो आग लगाती है फिर जलन होती है तो गाली देती है?

भाभी बोलीं- आराम से मज़े ले ! शुरू में तो सबके दर्द होता है, मैं जब चुद रही थी तो बड़ा मुस्कुरा रही थी, अब खुद की फट रही है तो रो रही है? बड़ी सती-सावित्री बन रही है? जब से आई है, लंड-लंड चिल्ला रही है और अब जब घुस रहा है तो रो रही है।

अमित बोला- मेरी प्यारी कुतिया भाभी, जितनी फटनी थी, उतनी फट गई है, अब ढीली होकर मज़े ले ! चुदाई इसी का नाम है।

सतीश एक तरफ मेरी चूचियों का रस नोच नोच कर निकाल रहा था, अमित दूसरी तरफ गांड लंड से खोद रहा था।

कुछ धक्कों के बाद मेरी गांड का दर्द कम हो गया लेकिन मेरी ठुकाई अच्छी तरह से हो रही थी, मेरी आँखों से आंसू बह रहे थे, मेरी गांड चुद चुद कर चौड़ी हो रही थी, मैं एक रंडी की तरह चुद रही थी। कुछ देर बाद अमित ने मुझे तिरछा करके लेटा लिया और मेरी जांघें फ़ैला दीं, लंड उसका मेरी गांड फाड़े हुए था, आगे से सतीश ने बिना देर किए मेरी चूत में लंड घुसा दिया। अब मैं दोनों के बीच सैंडविच बन गई थी, सतीश ने मेरी चुदाई 10 मिनट तक करी। अमित भी बीच बीच में धीरे धक्के मार रहा था। अब मैं दो दो लंडों से चुद रही थी।

इसके बाद दोनों ने अपने वीर्य से मेरी चूत और गांड भर दी। मैं अर्ध बेहोश सी हो गई थी, थोड़ी देर बाद मैं सो गई।

कहानी जारी रहेगी।

अपनी राय [email protected] पर भेजिये।

प्रकाशित: सोमवार 29 अक्टूबर 2012 3:17 pm

पिछला पृष्ठ